Janta Time

नशा मुक्ति केंद्र पर विधानसभा अध्यक्ष ने की छापेमारी! 32 मरीजों की दिखाई एंट्री, 99 फीसदी मिलीं फर्जी

 | 
नशा मुक्ति केंद्र पर विधानसभा अध्यक्ष ने की छापेमारी! 32 मरीजों की दिखाई एंट्री, 99 फीसदी मिलीं फर्जी

पंचकूला: पंचकूला को नशामुक्त करने की अपनी मुहिम के तहत हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने छापेमारी की. अध्यक्ष ने बुधवार को पिंजौर के गांव मड़ावाला में चल रहे नशा मुक्ति एवं पुनर्वास केंद्र पर छापामारी की.

छापामारी के दौरान फर्जी रिकॉर्ड समेत अनेक प्रकार की अनियमितताएं मिलीं. इतना ही नहीं इस केंद्र का लाइसेंस भी 6 महीने पहले खत्म हो चुका है. जानकारी मिली कि सालभर से इस केंद्र में एक भी व्यक्ति को नशा छुड़ाने के लिए दाखिल नहीं किया गया. इसी को देखते हुए अध्यक्ष ने पंचकूला प्रशासन को केंद्र संचालक के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं.

गौरतलब है कि विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने पंचकूला को विशिष्ट पहचान दिलाने के लिए 7 सरोकार शुरू किए हैं. इन सरोकारों में नशामुक्त पंचकूला शीर्ष स्थान पर है. जिले को नशामुक्त करने की मुहिम के तहत विधानसभा अध्यक्ष बुधवार को जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम को साथ लेकर मड़ावाला स्थित नशा मुक्ति एवं मनोरोगी अस्पताल पहुंचे.

यहां रिकॉर्ड चेक किया तो अनेक चौंकाने वाले तथ्य उजागर हुए. केंद्र संचालकों ने यहां 32 मरीजों की एंट्री दिखाई थी, जिनमें से करीब 99 फीसदी फर्जी मिलीं. विधानसभा अध्यक्ष ने यहां दर्शाए गए मरीजों को फोन मिलवाकर उनके इलाज की स्थिति जाननी चाही.

इन लोगों ने बताया कि उनका इस केंद्र पर इलाज नहीं चल रहा. जानकारी मिली कि केंद्र संचालक फर्जी रिकॉर्ड के सहारे नशामुक्ति के नाम पर सरकार से बड़ी रकम भी वसूल रहे हैं. साथ ही जानकारी मिली कि 140 रुपये में मिलने वाली दवा के यहां मरीजों की मजबूरी का फायदा उठाकर 390 रुपये वसूले जा रहे हैं. केंद्र पर ऐसी भी दवाएं मिली जिन्हें ट्रक चालक और अन्य युवा नशे के तौर पर प्रयोग करते हैं. 


 


विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने कहा कि कुछ मुनाफाखोरों ने नशा मुक्ति केंद्रों की आड़ में गलत धंधे अपना लिए हैं. ये केंद्र नशा मुक्ति की आड़ में युवाओं को नशे की दलदल में धकेल रहे हैं. गौरतलब है कि गत 1 मई को विधानसभा में पंचकूला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ की बैठक में विधानसभा अध्यक्ष ज्ञान चंद गुप्ता ने जिले को नशामुक्त करने के लिए विशेष रणनीति बनाई थी.

उन्होंने कहा है कि नशाखोरी को जड़ से उखाड़ना होगा. इसके लिए विशेष अभियान चलाकर इस धंधे में संलिप्त लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के लिए निर्देश दिए. गुप्ता ने कहा कि नशा हमारे देश के वर्तमान के साथ-साथ भविष्य को भी प्रभावित कर रहा है. किसी भी सभ्य एवं प्रगतिशील समाज में नशाखोरी पर अंकुश जरूरी है.

छापेमारी के दौरान विधानसभा अध्यक्ष के साथ पंचकूला की एडीसी वर्षा खनगवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. मुक्ता कुमार, खाद्य एवं औषधि प्रशासन में औषधि नियंत्रण अधिकारी डॉ. प्रवीण चौधरी भी मौजूद रहे.